Home Technolocy Content Marketing क्या है और यह क्यों जरुरी है?

Content Marketing क्या है और यह क्यों जरुरी है?

Content Marketing क्या है? उस खेल का नाम है,जब अछि योजना और रचनात्मकता के माध्यम से content बनाने और लक्षित ग्राहकों को इसे बढ़ावा देने की बात आती है। कंटेंट इन दिनों डिजिटल मार्केटिंग का केंद्रबिंदु बन गया है। क्योंकि, यदि अच्छी कंटेंट बनाना संभव नहीं है, तो केवल प्रचार द्वारा ग्राहकों तक पहुंचना संभव नहीं होगा। यदि कंटेंट प्रासंगिक नहीं है तो मार्केटिंग किसी भी मीडिया में प्रभावी नहीं होगी। content अब ब्लॉग, वेबसाइट, यूट्यूब और सोशल मीडिया में एक महत्वपूर्ण मार्केटिंग टूल के रूप में उपयोग की जा रही है।

Content Marketing क्या है और आवश्यकता क्यों है?

कोई फर्क नहीं पड़ता कि आप क्या करते हैं, हर चीज में कंटेंट की जरूरत होती है। चाहे आप ग्राहकों को ईमेल करें या सोशल मीडिया पर पोस्ट करें या ब्लॉग पर लेख लिखें, आपको निश्चित रूप से एक अच्छी सामग्री और उसकी मार्केटिंग की आवश्यकता होगी। लोग अब विज्ञापन पसंद नहीं करते हैं, कई लोग  विज्ञापन अवरोधक सॉफ़्टवेयर का उपयोग करते हैं। जो लोग एड ब्लॉकर का उपयोग नहीं करते हैं वे भी विज्ञापन पर क्लिक नहीं करते हैं। परिणामस्वरूप, विज्ञापनों से लोगों को आकर्षित किए बिना Content के साथ ग्राहकों को आकर्षित करना Content Marketing का सार है। content digital marketing की जान है।

  • ग्राहकों को आपके उत्पाद या सेवा के बारे में सूचित करने में Content Marketing एक आवश्यक भूमिका निभाता है।
  • ग्राहकों के बीच संबंध बनाने के लिए दिलचस्प कंटेंट का कोई विकल्प नहीं है।
  • ग्राहकों की विभिन्न समस्याओं को समझने के लिए Content Marketing महत्वपूर्ण है,और आपका उत्पाद उन्हें कैसे हल कर सकता है।
  • आपके brand मूल्य को बढ़ाने और वफादार ग्राहक बनाने के लिए अच्छी गुणवत्ता वाली कंटेंट की आवश्यकता होती है।
  • विज्ञापन, ईमेल मार्केटिंग, फेसबुक बूस्ट, यूट्यूब वीडियो, हर चीज के लिए दिलचस्प और अच्छे कंटेंट की जरूरत होती है।
  • एक अच्छी कंटेंट दर्शकों को एक विज़िटर्स से एक ग्राहक में बदल सकती है।

कंटेंट स्ट्रेटेजी और मार्केटिंग स्ट्रेटेजीज(Content Strategy and Marketing Strategies)

सभी संगठन कंटेंट का उपयोग करते हैं लेकिन यह सुनिश्चित करने के लिए एक planned Content Marketing स्ट्रेटेजीज की आवश्यकता होती है जो बाजार में लोकप्रियता हासिल करेगी या दर्शकों की जरूरतों को पूरा करेगी।

  • दर्शकों की पसंद के अनुसार कंटेंट बनाएं

दर्शकों को किस तरह का कंटेंट पसंद है, सोशल मीडिया पर किस तरह का कंटेंट ज्यादा शेयर किया जाता है, दर्शकों को किस तरह के कंटेंट के हिसाब से कंटेंट बनाने की उम्मीद होती है।

  • रेफरेन्सेस के साथ इन्फोर्मटिवे कंटेंट बनाना

किसी भी कंटेंट को बनाने के लिए रेफरेन्सेस का उपयोग करने से दर्शकों की विश्वसनीयता बढ़ती है। उस स्थिति में  कंटेंट इन्फोर्मटिवे, सटीक और संदर्भित होनी चाहिए।

  • कंटेंट रिसर्च कर के बनाये

तथ्य यह है कि दुनिया की अधिकांश कंटेंट लिखी गई है। उदाहरण के लिए, यदि आप Google खोज करते हैं, तो आपको कंटेंट मिल जायेगा। तो अब हमें चाहिए –

विचारों को प्राप्त करने के लिए बहुत सारा कंटेंट अनुसंधान के लिए मौजूदा कंटेंट के बुरे पहलुओं या कमियों का पता लगाना और अच्छा कंटेंट पब्लिश करने वालों को फॉलो करें सोशल मीडिया पर किस तरह का कंटेंट सबसे ज्यादा शेयर किया जाता है,कंटेंट कीवर्ड रिसर्च का अर्थ यह पता लगाना कि ग्राहक किस प्रकार की सामग्री खोजता है। वेब एनालिटिक्स का उपयोग करना अच्छी गुणवत्ता वाली कंटेंट बनाने के लिए आपको वेब एनालिटिक्स का उपयोग करना चाहिए, चाहे वह Google Analytics हो या Facebook Analytics। ऐसे में यह समझा जा सकता है कि दर्शकों को कौन सी सामग्री अधिक समृद्ध या अधिक स्वीकार्य है।

कंटेंट चैनल चुनें

अलग-अलग तरह के चैनलों के लिए अलग-अलग Content Marketing की जानी चाहिए। दर्शकों की जरूरतों, समय, रुचि, उम्र, स्थान आदि पर विचार करते हुए लक्षित दर्शकों को इसके इस्तेमाल किए गए चैनल पर मार्केटिंग करने की आवश्यकता है।

एसीओ अनुकूल कंटेंट बनाना

अगर कोई सर्च इंजन में सर्च करता है और उसे आपका कंटेंट नहीं मिलता है, तो कंटेंट बनाना बेमानी होगा। इसलिए आपकी सामग्री को सर्च इंजन अनुकूलित करने की आवश्यकता है। ऐसे में आपको कीवर्ड रिसर्च करके कंटेंट बनाना होता है।

  • क्वालिटी कंटेंट बनाएं

कंटेंट को किसी और से कॉपी नहीं किया जा सकता है, इसकी एसीओ रैंकिंग नहीं होगी और ग्राहक स्वीकृति नहीं करता ।

  • कंटेंट का शीर्षक और मेटा विवरण दिलचस्प होना चाहिए।
  • ब्लॉग कंटेंट के मामले में, कंटेंट को अलग दिखाने के लिए आपको पर्याप्त चित्रों और वीडियो का उपयोग करने की आवश्यकता है।
  • कंटेंट साफ-सुथरी और आकर्षक होनी चाहिए।

कंटेंट  कैलेंडर बनाये

नियमित कंटेंट प्रकाशित करने की आवश्यकता है, इस मामले में एक कार्यक्रम निर्धारित किया जा सकता है, सप्ताह के किस समय कितनी कंटेंट प्रकाशित की जाएगी। कभी देखा जाता है कि कभी नियमित कंटेंट प्रकाशित की जाती है और कभी लंबी अवधि तक कंटेंट प्रकाशित नहीं किया जाता । सामग्री कैलेंडर बनाने की आवश्यकता है ताकि कंटेंट प्रकाशन में निरंतरता बनी रहे।

मार्किटसेगमेंटेशन

व्यवसाय, स्थान, आयु, लिंग, वित्तीय स्थिति आदि के आधार पर अलग-अलग लोगों के लिए अलग-अलग कंटेंट  बनाने की आवश्यकता है। हो सकता है कि बच्चों के लिए कंटेंट वयस्कों के लिए उपयुक्त हो।

कंटेंट स्ट्रेटेजी  और टाइप्स  ऑफ़  मार्टेटिंग

Content Marketing  का उपयोग सभी प्रकार की कंपनियों के लिए एक प्रभावी रणनीति के रूप में किया जा रहा है। अच्छी गुणवत्ता वाली कंटेंट  बनाने के लिए बहुत सारी प्रतिभाओं की आवश्यकता होती है। अब सवाल आता है कि Content Marketing  में कैसे सफल हो और सफल होने के लिए किन तरीकों का इस्तेमाल किया जाए। इसलिए हम Content Marketing  के प्रकारों पर चर्चा करेंगे।

विभिन्न चैनलों पर विभिन्न प्रकार की कंटेंट  के साथ मार्केटिंग,ऐसे में आपको यह ध्यान रखना होगा कि आपके विजिटर किन प्लेटफॉर्म पर ज्यादा विजिट करते हैं। अब हमारे पास कई  प्लेटफॉर्म हैं ।

Content Marketing  के प्रकार

सोशल मीडिया कंटेंट

दुनिया भर में लगभग 3.6 बिलियन लोग विभिन्न प्रकार के सोशल मीडिया का उपयोग करते हैं, चाहे वह फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, इंस्टाग्राम आदि हो। सोशल मीडिया कंटेंट के विभिन्न प्रकार हैं। उदाहरण के लिए वायरल कंटेंट की डिमांड फेसबुक पर सबसे ज्यादा है। फेसबुक एक ऐसा प्लेटफॉर्म है जहां विभिन्न प्रकार की सामग्री का उपयोग शिक्षित करने, सतर्क करने, मनोरंजन करने, समाचार साझा करने आदि के लिए किया जाता है। फेसबुक का इस्तेमाल हर उम्र के लोग करते हैं। लेकिन ट्विटर पर छोटे-छोटे ट्वीट्स का इस्तेमाल किया जाता है जो चंद शब्दों से भरे होते हैं। दूसरी ओर, लिंक्डइन एक पेशेवर नेटवर्क है जहां व्यक्तिगत संचार पर व्यावसायिक संचार को प्राथमिकता दी जाती है।

 विभिन्न प्रकार के सोशल मीडिया के अलग-अलग प्रकार के दर्शक होते हैं इसलिए प्रत्येक कंटेंट को दर्शकों तक उसी के अनुसार पहुंचना होता है। प्रत्येक सोशल मीडिया के लिए कंटेंट  बनाने से पहले, आपको उन सोशल मीडिया दर्शकों के व्यवहार को समझना होगा। इसके लिए कंटेंट क्रिएटर्स को सोशल मीडिया मार्केटिंग की बेसिक्स पता होनी चाहिए।

ब्लॉग कंटेंट

ग्राहकों के पास विस्तृत जानकारी साझा करने के लिए ब्लॉग कंटेंट का विकल्प है। ब्लॉग पोस्ट ऐसी होनी चाहिए कि आगंतुकों को शैक्षिक, सूचनात्मक, उत्पाद संबंधी जानकारी आदि प्राप्त हो। ध्यान रखें कि ब्लॉग एक ऐसा प्लेटफ़ॉर्म है जो पाठक को ग्राहक में बदल सकता है। ब्लॉग कंपनी के ग्राहक संबंध को मजबूत करते हैं और ब्रांड मूल्य बढ़ाते हैं।

कंटेंट  को ब्लॉग पर प्रकाशित करने के बाद, इसे विभिन्न सोशल मीडिया पर प्रकाशित करने की आवश्यकता है। ब्लॉग Content Marketing दूसरे ब्लॉग से लिंक करके और सोशल मीडिया पर शेयर करके की जाती है।

वीडियो कंटेंट

कहने की जरूरत नहीं है कि आजकल लोग ब्लॉग पढ़ने से ज्यादा वीडियो देखने में रुचि रखते हैं। अन्य सभी माध्यमों में से वीडियो दर्शकों के लिए सबसे लोकप्रिय और आसान है। वीडियो कंटेंट  एक लंबे लेख को पढ़ने की तुलना में कम समय में अधिक जानकारी प्रदान कर सकती है। YouTube पर प्रतिदिन एक अरब वीडियो देखे जाते हैं, इसलिए दर्शकों को आकर्षित करने के लिए वीडियो Content Marketing का विकल्प  है।

ईमेल टेम्पलेट

ईमेल के माध्यम से ग्राहक के साथ संवाद करने के लिए आपको एक ईमेल टेम्पलेट का उपयोग करने की आवश्यकता है। ईमेल टेम्प्लेट ग्राहक के उत्पाद या सेवा को सारांशित करता है। ईमेल टेम्प्लेट लक्षित ग्राहकों को विभिन्न ऑफ़र, सुविधाओं, अपडेट आदि के बारे में सूचित करता है।

आर्टिकल  इन्फोग्राफिक्स

इन्फोग्राफिक्स केवल शब्दों की तुलना में डेटा की अधिक दृढ़ता से कल्पना कर सकता है। टेबल, चार्ट, ग्राफ आदि इन्फोग्राफिक्स के उदाहरण हैं। दर्शकों के लिए संपूर्ण कंटेंट  को संक्षेप में प्रस्तुत करने के लिए इन्फोग्राफिक्स का कोई विकल्प नहीं है।

आखिरकार

कंटेंट मार्केटिंग एक बहुत बड़ा चैप्टर है। कंटेंट अब डिजिटल मार्केटिंग का मुख्य फोकस है। हमने Content Marketing की मूल बातें उजागर करने का प्रयास किया है। यदि आपके कोई प्रश्न या टिप्पणी हैं, तो कृपया हमसे बेझिझक संपर्क करें।

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Exit mobile version